पौड़ी की इस 11वर्षीय बहादुर लड़की को मिल सकता है राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार; कवायद शुरू -जानिए खबर

पौड़ी। अपने भाई की रक्षा के लिए स्वयं की जान पर खेलने वाली राखी का नाम राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार के लिए भेजा जा रहा है। जिलाधिकारी धीराज ङ्क्षसह गब्र्याल ने बताया कि राखी ने दूसरे के जीवन रक्षा के लिए अपने जीवन की परवाह किए बिना अदम्य साहस का परिचय दिया। बताया कि राखी के इसी साहस को देखते हुए उसका नाम वीरता पुरस्कार के लिए भेजा जाएगा।

ज्ञातव्य हो कि पौड़ी जिले के पाबौ ब्लाक में आतंक का पर्याय बने नरभक्षी गुलदार को मार गिराया गया। दो अक्टूबर को इस गुलदार ने मां के साथ घास लेकर लौट रही 10 वर्षीय बच्ची को निवाला बनाया था। मारे गए गुलदार की उम्र छह से सात वर्ष के बीच है।

वीरोंखाल प्रखंड के अंतर्गत ग्राम देवकंडाई निवासी दलवीर सिंह रावत की 11 वर्षीय पुत्री राखी अपने छोटे भाई राघव (चार वर्ष) को कंधे में बिठाकर खेत से गांव की ओर आ रही थी। राखी के साथ उसकी मां शालिनी देवी भी थी, जो कि राखी के पीछे कुछ दूरी पर थी। रास्ते में अचानक गुलदार ने राघव पर झपट्टा मार दिया। राखी ने गुलदार की ओर झपट्टा मार राघव को गुलदार के पंजे से छुड़ा दिया व उसे अपने सीने से चिपका कर मुंह के बल लेट गई। गुलदार ने पंजे व दांतों से राखी पर कई वार किए, लेकिन राखी ने राघव को नहीं छोड़ा।

इसी दौरान उसकी मां वहां पहुंची व शोर मचाते हुए गुलदार की ओर पत्थर फेंके, जिस पर गुलदार जंगल की ओर भाग गया। शोर सुनकर मौके पर पहुंचे ग्रामीण राखी व राघव को लेकर पोखड़ा स्वास्थ्य केंद्र पहुंचे, जहां से उन्हें कोटद्वार रेफर कर दिया गया। शनिवार शाम परिजन दोनों को लेकर कोटद्वार बेस चिकित्सालय में आए, जहां से राघव को प्राथमिक उपचार के बाद छुट्टी दे दी गई, जबकि राखी को एम्स ऋषिकेश के लिए रेफर कर दिया गया।

राखी के सिर व पीठ पर काफी चोटें आई हैं। एम्स के चिकित्सकों ने भी राखी की गंभीर स्थिति को देखते हुए उसे सफदरजंग अस्पताल, दिल्ली के लिए रेफर कर दिया। बता दें कि ईलाज के लिए दिल्ली के अस्पताल में भर्ती हुई बालिका राखी अब खतरे से बाहर है और उसे अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है।

ज्ञातव्य हो कि इन दिनों पौड़ी जिले के कई गांव गुलदार के आतंक से त्रस्त हैं। लोग दिन ढलने के बाद घरों से बाहर निकलने से कतरा रहे हैं। बीते बुधवार को 10 वर्षीय बच्ची की मौत से गुस्साए ग्रामीणों ने राष्ट्रीय राजमार्ग पर जाम लगाकर हंगामा किया। गढ़वाल वन प्रभाग के प्रभागीय वनाधिकारी लक्ष्मण सिंह रावत ने बताया कि गुलदार को नरभक्षी घोषित कर मारने के आदेश जारी किए थे।

इसके लिए शिकारी अजहर खान व विपिन ख्याली को तैनात किया गया। ये दोनों शिकारी घटना स्थल के पास मचान बनाकर गुलदार की गतिविधियों पर नजर रख रहे थे। रविवार शाम को करीब छह बजे गुलदार घटना स्थल के पास नजर आया।

इसके बाद सात बजे गुलदार फिर दिखा तो शिकारी अजहर खान ने गोली चला दी। गोली लगने से घायल गुलदार जंगल में भाग गया। रातभर शिकारी घायल गुलदार को तलाशते रहे। सोमवार सुबह वह जंगल में नजर आया तो शिकारियों ने फिर गोली चलाई। इस पर नरभक्षी ढेर हो गया। प्रभागीय वनाधिकारी ने बताया कि क्षेत्र में और भी गुलदारों की मौजूदगी सामने आई है। इसके लिए गांवों के आसपास पिंजरे लगाए हैं।

Sushil Kumar Josh

‘उत्तराखण्ड जोश’ एक वेब पोर्टल है जो देश-विदेश, सरकारी, अर्धसरकारी, सामाजिक गतिविधियां, स्वस्थ्य, मनोरजंन, स्पोर्टस, कहानी, कविता एवं व्यंग्य संबंधी समाचार एवं घटनाओं को सोशल मीडिया द्वारा अपने सुधीपाठकों एवं समाज तक पहुंचाता है। वहीं अपने सुधीपाठकों से यह आशा करता है कि खबरों को शेयर एवं लाइक जरूर करें। हमें आपके सहयोग की अतिआवश्यकता है। धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *