हिमालय के प्राकृतिक सौंदर्य में ईश्वर के दर्शन -जानिए खबर

सत्यम शिवम् सुन्दरम, सर्वोच्च सौन्दर्य ही सत्य है – स्वामी सुन्दरानन्द

देहरादून। स्वामी सुन्दरानन्द जी का जन्म 1926 में अनंतपुरम ग्राम, जिला नल्लोर, आंध्र प्रदेश में हुआ था। किशोरावस्था में ध्रुव, प्रह्लाद व मार्कण्डेय की कहानियों से प्रेरित हो उन्होंने भी इन्ही संतों की तरह तपस्या करने का निश्चय किया। 1947 में जब भारत आजाद हुआ, तो वह अपने घर से भगवान की खोज में निकल पड़े। ना तो उन्हें यह पता था कि कहाँ जा रहे हैं ना ही कोई मार्ग दर्शक था। हर कदम पर कठिनाइयाँ आयी परन्तु वह विचलित नहीं हुए। सौभाग्य से उन्हें स्वामी तपोवन महाराज जी जैसा सुयोग्य गुरु मिला।

स्वामी तपोवन जी महाराज वेदांत, उपनिषद और गीता के प्रकांड विद्वान् थे। उन्होंने विश्वनाथ मंदिर के प्रांगण में बैठ, 18 दिन में “सौम्य काशी स्त्रोतम“ लिखा था। गुरुदेव जी प्रतिवर्ष अक्षय तृतीया के बाद उत्तरकाशी से गंगोत्री पैदल कूच कर जाते थे। गंगोत्री पहुँचने में छ दिन लगते थे। उजेली की तरह गंगोत्री में भी गुरुदेव की एक कुटिया थी। यह कुटिया आज विश्वप्रख्यात है।

स्वामी सुन्दरानन्द जी एक ऐसे कर्मयोगी, सिद्ध व सरल साधु हैं जिन्होंने लगभग अपनी पूरी जिन्दगी, हिमालय की गोद में, गंगा मैय्या के चरणों में बैठकर, एक साधारण सी कुटिया में साधना कर बिता दी। उनका मानना है। ‘सत्यम शिवम् सुन्दरम, सर्वोच्च सौन्दर्य ही सत्य है।’

वे हिमालय और उसके प्राकृतिक सौंदर्य में ईश्वर के दर्शन करते हैं। अपने पर्वतारोहण तथा पर्यटन के दौरान स्वामी जी ने हिमालय से सम्बंधित हजारों चित्र लिए। उनके पास पुष्पों, मंदिरों , साधुओं, वन्य जन्तुओं का भी अद्वितीय संकलन है। उन्होंने देश के विभिन्न भागों में स्लाइड शो का आयोजन कर, लाखों लोगों को अपने चित्रों के माध्यम से हिमालय दर्शन करवाया। अब वह यही कार्य कलादीर्घा के माध्यम से करना चाहते हैं।

कर्नल कोठियाल के केदारनाथ के पुनर्निर्माण के कार्य से प्रभावित होकर स्वामी सुंदरानंद ने अपनी कलादीर्घा को सम्पन्न करने का जिम्मा उनको सौंपा। समय का आभाव था, परंतु कर्नल कोठियाल की टीम ने दिन रात मेहनत कर निश्चित दिनाँक पर आर्ट गैलरी का उद्घाटन करवाया।

Sushil Kumar Josh

‘उत्तराखण्ड जोश’ एक वेब पोर्टल है जो देश-विदेश, सरकारी, अर्धसरकारी, सामाजिक गतिविधियां, स्वस्थ्य, मनोरजंन, स्पोर्टस, कहानी, कविता एवं व्यंग्य संबंधी समाचार एवं घटनाओं को सोशल मीडिया द्वारा अपने सुधीपाठकों एवं समाज तक पहुंचाता है। वहीं अपने सुधीपाठकों से यह आशा करता है कि खबरों को शेयर एवं लाइक जरूर करें। हमें आपके सहयोग की अतिआवश्यकता है। धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *