10 माह बाद पैदा हुए बच्चे ने मिला तलाक शुद्धा माता-पिता को; पुलिस की मौजूदगी में फिर लिये सात फेरे -जानिए खबर

हिसार। तलाक के 10 माह बाद पैदा हुए बच्चे ने अपने बिछड़े हुए माता-पिता के घर को एक बार फिर टूटने से बचा लिया है। इस नन्हें बेटे ने तलाक ले चुके माता-पिता  को फिर से सात फेरे में बांध कर जिन्दगी एक नई किरण जला दी है।

बता दें कि रोचक मामला झज्जर व हिसार से जुड़ा है। मीडिया सूत्रों के मुताबिक इस दंपती की शादी के करीब चार साल बाद तलाक हो गया था। तलाक के 10 दिन बाद महिला ने एक बेटे को जन्म दिया। उसने पूर्व पति को इस बच्‍चे का पिता बताया और पैतृक हक दिलाने अदालत पहुंची। पूर्व प‍ति ने इससे इन्‍कार किया तो कोर्ट के आदेश पर डीएनए टेस्‍ट के लिए नमूना भेजा गया।

लेकिन, रिपोर्ट आने से पहले ही उसने खुद को बच्‍चे का पिता मान लिया। इसके बाद पति-पत्‍नी ने पुलिस की मौजूदगी में फिर से सात फेरे ले लिये। दरअसल 2014 में झज्जर के एक गांव के नौसेना में तैनात युवक से हिसार के एक गांव की युवती की शादी हुई थी। मनमुटाव के चलते अप्रैल 2018 में दंपती में तलाक हो गया। दस माह बाद जनवरी 2019 में महिला ने बेटे को जन्म दिया। नवंबर 2014 में हिसार जिले के एक गांव की इस युवती की शादी झज्जर के अंतर्गत आने वाले एक गांव से संबंध रखने वाले नौ सैनिक से हुई थी।

शादी के बाद दोनों की एक बेटी हुई। इसके बाद दोनों में अक्सर विवाद रहने लगा। इसके बाद उन्होंने अलग रहने का सहमति से फैसला कर लिया। मामला अदालत में चला गया। अदालत ने दोनों को साथ रहने के लिए दो मौके भी दिए गए लेकिन दोनों अपनी बात पर डटे रहे।

दोनों के रुख को देखते हुए अप्रैल 2018 में अदालत के स्तर पर तलाक मंजूर कर लिया गया। महिला ने अपने बेटे के पैतृक हक के लिए अदालत में याचिका दायर करते हुए कहा कि उसका तलाकशुदा पति ही बच्चे का पिता है। दूसरी ओर पूर्व पति का कहना था कि बच्चा तलाक के दस माह बाद हुआ है।

वह उसका पिता नहीं है। दायर याचिका पर अदालत ने बीते 2 मई को आदेश दिए थे कि 9 मई को डीएनए टेस्ट के लिए सैंपल लिए जाएं और रिपोर्ट कोर्ट में पेश की जाए ताकि मामला स्पष्ट हो सके। इसके बाद डीएनए टेस्‍ट के लिए नमूना लिये गये।

अभी डीएनए की रिपोर्ट आना शेष था कि उससे पहले ही युवक ने स्वीकार कर लिया कि तलाक होने के बाद भी दोनों के बीच में संबंध रहे हैं, बच्चा उसका ही है। इसके बाद दोनों फिर एक साथ रहने पर राजी हो गए। महिला के परिवार के स्तर पर हो रहे विरोध के मद्देनजर भारी पुलिस पहरे में शुक्रवार को दोनों ने शहर के एक मंदिर में हिंदू रीति रिवाज से फिर शादी कर ली। इसके बाद दंपती अदालत के समक्ष पहुंचा और शादी की जानकारी दी।

बहरहाल, जिस बच्चे को पैतृक हक दिलवाने के लिए महिला ने अदालत का दरवाजा खटखटाया था, उसी बच्चे की वजह से एक बार तलाक हो जाने के बाद वे दोबारा नए सिरे से पति-पत्‍नी बन गए हैं। बच्चे को पिता की पहचान दिलाने के लिए अदालत में याचिका दायर की गई थी। डीएनए सैंपल की रिपोर्ट आना शेष है।

युवक ने स्वीकार कर लिया है कि वह बच्चे का बाइलोजिकल पिता है। दोनों ने शुक्रवार को शहर के एक मंदिर में हिंदू रीति रिवाज से दूसरी बार शादी भी कर ली है।

Sushil Kumar Josh

‘उत्तराखण्ड जोश’ एक वेब पोर्टल है जो देश-विदेश, सरकारी, अर्धसरकारी, सामाजिक गतिविधियां, स्वस्थ्य, मनोरजंन, स्पोर्टस, कहानी, कविता एवं व्यंग्य संबंधी समाचार एवं घटनाओं को सोशल मीडिया द्वारा अपने सुधीपाठकों एवं समाज तक पहुंचाता है। वहीं अपने सुधीपाठकों से यह आशा करता है कि खबरों को शेयर एवं लाइक जरूर करें। हमें आपके सहयोग की अतिआवश्यकता है। धन्यवाद

Leave a Reply