हानिकारक पराबैंगनी किरणों से हमें बचाती है ओजोन परत -जानिए खबर

नैनीताल। विश्व ओजोन दिवस पर वनस्पति विज्ञान के प्रोफेसर ललित तिवारी ने कहा कि 16 सितम्बर का दिन पृथ्वी के ऊपर मौजूद ओजोन परत तथा पर्यावरण में उसकी भूमिका के लिए यह दिवस पूरे विश्व में 16 सितम्बर को मनाया जाता है।

इस दिवस ओजोन को संरक्षित करने तथा अल्ट्रा वायलेट किरणों से सावधान रहने तथा ओजोन परत को क्षरण से बचाने में आम जन को जागरूक करने के उद्देश्य से मनाया जाता है।

1995 से शुरु हुए इस दिवस को ओजोन परत संरक्षण से देखा जाता है। 1913 में फ्रांस के चाल्र्स तथा हेनरी ने इस परत की खोज की जो हमें सूर्य की हानिकारक पराबैंगनी किरणों से हमें छन्नी का कार्य कर बचाती है। मनुष्य के स्वास्थ्य विशेषकर त्वचा रोग तथा पर्यावरण को उसके दुष्परिणाम से बचती है।

सूर्य से पृथ्वी की तरफ अपने वाली किरणों में पराबैंगनी किरणें शामिल होती है। जिसमें ऊर्जा होती है तथा यह ओजोन परत को पतला करने का काम करती है। जैव विविधता, मोतियाबिंद, कैंसर, शारीरिक क्षमता कम हो जाती है।

ओजोन जिसे वायुमण्डल में उपस्थित रहती है तथा 20-30 किमी. की ऊंचाई पर पायी जाती है। संयुक्त राष्ट्र ने 1994 में 16 सितम्बर को ओजोन परत संरक्षण दिवस मनाने का निर्णय मान्ट्रिएल प्रोटोकाॅल के तहत लिया।

Sushil Kumar Josh

‘उत्तराखण्ड जोश’ एक वेब पोर्टल है जो देश-विदेश, सरकारी, अर्धसरकारी, सामाजिक गतिविधियां, स्वस्थ्य, मनोरजंन, स्पोर्टस, कहानी, कविता एवं व्यंग्य संबंधी समाचार एवं घटनाओं को सोशल मीडिया द्वारा अपने सुधीपाठकों एवं समाज तक पहुंचाता है। वहीं अपने सुधीपाठकों से यह आशा करता है कि खबरों को शेयर एवं लाइक जरूर करें। हमें आपके सहयोग की अतिआवश्यकता है। धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *