जो सत्गुरू को निरंकार समझता है उसी का जीवन कल्याणमय होता है: डा. जगन्नाथ शर्मा हंस

देहरादून। निरंकारी जगत में आज 13 मई को बाबा हरदेव सिंह जी महाराज की स्मृति में समर्पण दिवस मनाया गया है। इस मौके पर संत निरंकारी सत्संग भवन रैस्ट कैम्प में दिल्ली से पधारे महात्मा डा0 जगन्नाथ हंस ने कहा कि जो सत्गुरू को निरंकार समझता है, उसी का जीवन कल्याणमय होता है।

वहीं उन्होंने कहा कि सत्गुरू के तीन रूप होते है। पहला स्वयं सत्गुरू, दूसरा साध संगत और तीसरा प्रकृति के समस्त जड़ चेतन और सम्पूर्ण ब्रहमाण्ड। इसी का बोध सत्गुरू कराता है और यही बोध सत्गुरु बाबा हरदेव सिंह जी ने हमें कराया है। सत्गुरू बाबा हरदेव सिंह जी का जन्म 23 फरवरी, 1954 को हुआ। सत्गुरू बाबा जी ने 26 वर्षों तक सेवादल मंे सेवादर के रूप में सेवा करते रहे। 27 अपै्रल, 1980 में उन्होंने गुरूगद्दी सम्भाली।

उन्होंने पूरे विश्व में निरंकारी मिशन का प्रचार-प्रसार किया। यू0एन0ओ0 ने उन्होंने आध्यात्मिकता के क्षेत्र में उनके उल्लेखनीय कार्यों के लिए विश्व शान्ति पुरस्कार प्रदान किया। निरंकारी बाबा हरदेव सिंह जी महाराज ने विश्वशान्ति और मानवता के सार्वभौमिक भाई-जारे की स्थापना के सपने को पूरा करने के लिए अपना सम्पूर्ण जीवन मानवता को समर्पित कर दिया। बाबा जी ने 36 वर्ष तक नेतृत्व करते हुये मानव मात्र को इंसानियत का रूतबा बुलन्द करने वाली प्रेरणा दी।

उन्होंने अपने सम्पूर्ण जीवन काल में धर्म-सम्प्रदाय, मजहब से ऊपर उठकर मानव मात्र में प्रेम, भाईचारा, मिलवर्तन, करूणा, दया, एकत्व के दिव्यगुणों को हृदय में उजागर किया। दिनांक 13, मई, 2016 को अपने नश्वर शरीर को त्यागकर निरंकार में विलिन हो गये थें। निरंकारी मिशन इस दिन को उन्हें याद करके ’’समर्पण दिवस’’ के रूप में मनाता है। मिशन का प्रत्येक गुरूसिंख उनकी बताई हुई शिक्षाओं का अनुसरण कर रहा है।

निरंकारी मिशन के इस कारवां को विश्वभर में वर्तमान समय में सद्गुरू माता सुदीक्षा जी बढ़ा रही है। इस अवसर पर स्थानीय संयोजक कलम सिंह रावत जी ने जानकारी देते हुए कहा कि दिनांक 19 मई, 2019 को सत्गुरू माता सुदीक्षा संविन्दर हरदेव जी महाराज की हजूरी में एक विशाल सन्त समागम का आयोजन हरिद्वार बाईपास भवन पर होगा, जिसका समय सायं 5.00 बजे से 8.00 बजे तक होगा। प्रवचनों से पूर्व कई सन्तों-भक्तों, वक्ताओं, गीतकारों ने अपने उद्गार हिन्दी, पंजाब, गढ़वाली, कुमाउंनी भाषा के माध्यम से प्रकट किये। मंच का संचालन विजय रावत ने किया।

Sushil Kumar Josh

‘उत्तराखण्ड जोश’ एक वेब पोर्टल है जो देश-विदेश, सरकारी, अर्धसरकारी, सामाजिक गतिविधियां, स्वस्थ्य, मनोरजंन, स्पोर्टस, कहानी, कविता एवं व्यंग्य संबंधी समाचार एवं घटनाओं को सोशल मीडिया द्वारा अपने सुधीपाठकों एवं समाज तक पहुंचाता है। वहीं अपने सुधीपाठकों से यह आशा करता है कि खबरों को शेयर एवं लाइक जरूर करें। हमें आपके सहयोग की अतिआवश्यकता है। धन्यवाद

Leave a Reply