निष्काम सेवाएं अमृत समान इसमें छिपे हुये है वरदान; 72वें वार्षिक निरंकारी संत समागम में स्वैच्छिक सेवाएं शुरु -जानिए खबर

समालखा। संत निरंकारी मिशन की प्रमुख, सद्गुरु माता सुदीक्षाजी महाराज के कर कमलों द्वारा 72वें वार्षिक निरंकारी संत समागम के लिए स्वैच्छिक सेवा का शुभारम्भ दिनांक 5 अक्तूबर, 2019 को समागम स्थल पर किया गया। यह समागम 16 से 18 नवम्बर, 2019 तक संत निरंकारी आध्यात्मिक स्थल, नजदीक समालखा में जी.टी.रोड के पास होने जा रहा है और यह समागम संत निरंकारी मिशन की निजी भूमि पर दूसरी बार आयोजित होगा।

सद्गुरु माता सुदीक्षा जी महाराज ने सेवादल के अधिकारियों, स्वयंसेवकों और दिल्ली एवं इसके आस-पास के क्षेत्रों, पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश इत्यादि राज्यों से अत्यधिक संख्या में आये श्रद्धालुओं की उपस्थिति में इन सेवाओं का विधिवत उद्घाटन किया।

72th Nirankari Sant Samagam Inuguration

इस समागम का लक्ष्य मानव एकता, प्रेम-प्यार तथा शान्ति को मजबूती देना है। यह मिशन चाहता है कि सभी एक साथ मिलकर रहें, मानवीय गुणों से यमानवता का बोलबाला करें और विश्व भर को एक परिवार का रुप प्रदान करें।

समागम सेवाओं में भाग लेने के लिए विश्व से स्वयंसेवक समागम स्थल पर जाने वाले हैं। देशभर से हजारों सेवादल, स्वयंसेवक और श्रद्धालु इस सेवा में भाग लेने के लिए रवाना हो रहे हैं। दिल्ली, हरियाणा, पंजाब और उत्तर प्रदेश के आस-पास के क्षेत्रों से समागम स्थल पर कल 7 अक्टूबर, 2019 से प्रतिदिन सेवायें जारी रहेगी।

समस्त भारतवर्ष से लाखों की संख्या में श्रद्धालु समागम हेतु पहुंच रहे हैं और इसके अतिरिक्त विदेशों से भी बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंच रहे हैं। समागम को ध्यान में रखते हुए भारतीय रेल विभाग ने टिकटों में 50 प्रतिशत की रियायत देने का फैसला किया है। यह रियायत रु. 5000/- तक की मासिक आय वाले व्यक्तियों के लिए 300 किलोमीटर और उससे अधिक की दूरी की यात्रा करने वालों के लिए उपलब्ध होगी।

रेलवे ने प्रत्येक एक्सपेस और मेल ट्रेन को समागम स्थल के करीब स्थित भोड़वाल माजरी रेलवे स्टेशन पर 5 नवम्बर से 30 नवम्बर, 2019 तक 3 मिनट के लिए रोकने का फैसला किया है। मुख्य सत्संग पंडाल और आवासीय शामियानों की बड़ी कालोनियों के अलावा, समागम मैदान में विभिन्न कार्यालय, प्रदर्शनी, प्रकाशन स्टाल, लंगर, कैन्टीन और डिस्पैंसरी इत्यादि होंगे।

बसों के साथ-साथ अन्य वाहनों के लिए पार्किग क्षेत्र होंगे और पूरे क्षेत्र में सभी की सुविधा को ध्यान में रखते हुए स्वच्छता गृह इत्यादि की समुचित व्यवस्था होगी। पानी और बिजली की आपूर्ति, परिवहन, यातायात नियंत्रण तथा अन्य आवश्यक सुविधाओं के लिए संबंधित स्थानीय प्रशासन के साथ निकट समन्वय स्थापित किया जा रहा है।

स्वच्छता पर विशेष ध्यान दिया जायेगा। लंगर को स्टील की प्लेटों में परोसा जायेगा। समागम में शामिल होने वाले शारीरिक रुप से असमर्थ भक्तों के लिए विशेष व्यवस्था होगी। समागम में प्राथमिक उपचार के लिए डिस्पैन्सरीयों तथा उपचार केन्द्रों का भी प्रबंध किया जायेगा।

Sushil Kumar Josh

‘उत्तराखण्ड जोश’ एक वेब पोर्टल है जो देश-विदेश, सरकारी, अर्धसरकारी, सामाजिक गतिविधियां, स्वस्थ्य, मनोरजंन, स्पोर्टस, कहानी, कविता एवं व्यंग्य संबंधी समाचार एवं घटनाओं को सोशल मीडिया द्वारा अपने सुधीपाठकों एवं समाज तक पहुंचाता है। वहीं अपने सुधीपाठकों से यह आशा करता है कि खबरों को शेयर एवं लाइक जरूर करें। हमें आपके सहयोग की अतिआवश्यकता है। धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *